Tuesday, August 25, 2015

विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी में नागरी प्रयोग -- ओम विकास

विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी में नागरी प्रयोग

20 वीं सदी में आर्थिक विकास का आधार विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी रहा । नवाचार एवं आविष्कारोन्मुखी प्रवृत्ति से समाज विकसित और अविकसित वर्गों में बँटने लगे ।  21 वीं सदी में संज्ञानिकी का प्रबल प्रभाव है । लोक संस्कृति की संरक्षा की चिंता बढ़ने लगी है । प्रति वर्ष 2 प्रतिशत विश्व भाषाओं का लोप होता जा  रहा है ।  प्रति वर्ष लगभग 60 लाख पृष्ठ विज्ञान शोध पत्रिकाओं में, और लगभग 165 लाख पृष्ठ  विज्ञान पुस्तकों के रूप में प्रकाशित हो रहे हैं । आधुनिक विज्ञान नागरी में नगण्य है, परिणाम  -  
लोक व्यवहार में वैज्ञानिकता और नव नवीन सोच और प्रौद्योगिकी का अभाव, और सतत परमुखापेक्षी समाज ।  इसलिए प्राथमिकता हो विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी में नागरी प्रयोग का संवर्धन ।

कतिपय सुझाव इस प्रकार हैं –

शिक्षा
  1. उच्च तकनीकी शिक्षा, जैसे AIIMS, IITK, IITD, IITB आदि  के प्रथम वर्ष में ही आत्महत्या कर लेने वाले मेधावी किशोरों को भावपूर्ण श्रद्धांजलि । अपनी भाषा में उच्च शिक्षा की वंचना से विवश हुए आत्महत्या को, असंवेदनशील हैं शिक्षा प्रशासक और योजनाकार ।

  1. उच्च तकनीकी शिक्षा के पाठ्यक्रम में प्रथम वर्ष की पढ़ाई हिन्दी, लोकभाषा, इंग्लिश में मिश्रित हो । लैब में सभी उपकरणों के नाम नागरी में भी लिखे जाएं । मिनी प्रोजेक्ट भारतीय भाषा में भी हो ।

  1. मैथ्स / आई टी ओलंपियाड की भांति नागरी ओलंपियाड आयोजित किए जाएं, प्रतियोगिताएं स्कूल , कॉलेज़ स्तर की और व्यावसायिक प्रयोग स्तर की हो सकती हैं । कैलीग्राफी, लिपि व्याकरण, मानक वर्तनी, लिप्यंतरण आदि पर प्रश्न हों ।


  1. नागरी लिपि ध्वन्यात्मक लिपि है । विज्ञान-सम्मत सर्वध्वनि-लिप्यंकण पाणिनी-सारणी का  आधार है । वर्तनी  मानकीकरण में  पाणिनी-सारणी को ध्यान में रखा जाए ।



प्रैद्योगिकी

  1. नागरी लिपि पर आधारित फोनीकोड का विकास किया जाए । यूनीकोड ग्राफिम(रूपिम) आधारित है, फोनीकोड फोनिम (स्वनिम)  आधारित है । अक्षर (सिलेबल) ध्वनि को कोडित करते हैं । भारत की विशिष्ट देन होगा ।

  1. नागरी लिपि के कम से कम दस सुंदर मानक ऑपेन टाइप फोंट व्यावसायिक प्रयोग के लिए भी मुफ्त, मुक्त ओपेन डोमेन में सर्वसुलभ कराए जाएं ।  यह जनहित में दूरगामी कदम होगा ।

  1. स्कूलों-कॉलेजों में नागरी OCR, Open Office, Library Info System, Accounting  Software, School Management Software आदि उपलब्ध कराए जाएं। भारतीय भाषा कम्प्यूटिंग सुविधा अनिवार्य हो । कंप्यूटर की खरीद में नागरी की-बोर्ड और लोडित भारतीय भाषा सॉफ्टवेयर अनिवार्य हो ।

  1. नागरी टंकण  के लिए INSCRIPT मानक,  और लिप्यंतरण  के लिए नागरी-रोमन मानक INSROT के  प्रयोग को बढ़ावा दिया जाए ।

  1. वेब पर डोमेन नेम नागरी में भी स्वीकार्य हों । इनकी उपलब्धता को ICANN  से स्वीकृति तो मिली है, लेकिन इसके  प्रयोग प्रसार को भारत सरकार सुनिश्चित करे ।

  1. नागरी में कंटेट क्रियेशन और वेब सर्विस इंटीग्रेशन और  XML आदि मानकों पर भी काम
किया जाए ।


प्रयोग

  1. राज्य स्तर की पर्यटन सूचनाएं नागरी लिपि में भी हों, क्योंकि धर्म स्थलों और पुरातत्व अवशेषों को देखने जन सामान्य पर्यटक पूरे देश से आते हैं ।

  1. शिक्षा में भारतीय भाषाओं और लिपि के प्रयोग संवर्धन की दिशा में विशेष प्रयास किए जाने की आवश्यकता है । सभी सरकारी विभागों और इनके सभी  प्रतिष्ठानों में हिन्दी में वेबसाइट पर कंटेंट अद्यतन किए जाने की समय समय पर समीक्षा हो ।

  1. ज्ञान पूर्ति के लिए अनुवाद आवश्यक है, लेकिन सरकारी कार्यालयों में वर्तमान अनुवाद विधा ने हास्यस्पद स्थिति मे ला खड़ा किया है । प्रस्तावित है अनुसृजन विधा  जो पाठक- केन्द्रित है, सुबोध और नवाचार प्रेरक है ।

  1. निगरानी के लिए  एक स्वतंत्र समीक्षा संस्था  बनाई जाए जो लक्ष्य और दयित्व  निर्धारित करे, और समय समय पर नागरी प्रयोग स्थिति, प्रसार कार्यक्रमों के प्रभाव (इम्पेक्ट),  और प्रयोग-प्रसार की समस्याओं पर  सर्वे कर परिणाम प्रकाशित करे, तथा केन्द्रीय  एवं राज्य सरकार में  नीति अनुपालन के लिए दबाब डाले ।










लक्ष्य
दायित्व
उच्च तकनीकी शिक्षा में पाठ्यक्रम में प्रथम वर्ष की पढ़ाई हिन्दी-इंग्लिश मिश्रित भाषा  में हो । नागरी ओलंपियाड, वर्तनी मानकीकरण ...  
मानव संसाधन विभाग, UGC, AICTE, MCI, PCI, आदि तथा राज्यों के  शिक्षा विभाग
सरकारी अनुदान से विकसित फोंट, सॉफ्टवेयर   आदि सूचना प्रौद्यिगिकी व्यावसायिक स्तर भी जन हित में प्रयोग की जा सके। 24x7 हेल्पलाइन हो। डोमेन नेम नागरी में हो । फोनीकोड का विकास  हो। मानकओं का अनुपालन हो ।
सूचना प्रौद्योगिकी विभाग
राजकीय कार्यालयों, स्कूलों, तकनीकी संस्थानों में  कंप्यूटर, “आकाश”  टेब्लेट की खरीद में नागरी की-बोर्ड एवं हिन्दी सॉफ्टवेयर   पूर्व लोडित  अनिवार्य हो ।
सूचना प्रौद्योगिकी विभाग, मानव संसाधन विभाग
अनुसृजन विधा से विज्ञान-प्रौद्योगिकी ज्ञान सर्जन उपादेय हो। विषय विशेषज्ञों के द्वारा हो। ACR में भी इसका विशेष उल्लेख हो।
DST, DBT, DIT, DOT, DES, DoEF, MHRD और अंतर्गत प्रतिष्ठानों के सभी वैज्ञानिकों का
स्टॉफ सेलेक्शन में INSCRIPT आधारी टंकण दक्षता अनिवार्य हो ।
SSC, DOL
पर्यटन स्थलों के नाम संकेत और दुकानों के विज्ञापन पटों पर जगह जानकारी नागरी में हो।
सभी राज्यों के पर्यटन विभाग
एयरलाइन व राजधानी आदि में नागरी परिचय और संक्षिप्त सुबोध पर्यटन परिचय राजभाषा  हिन्दी में हो।
नागर विमानन विभाग, रेल विभाग  
लक्ष्य एवं दायित्व निर्धारण, तथा राजकीय कार्यों और दायित्वों की समीक्षा एवं अनुपालन सम्मत कार्यवाही
राजभाषा विभाग
स्वतंत्र सर्वे एवं  सघन समीक्षा
गैर-सरकारी संस्था संघ

No comments: